हवेली खड़गपुर का संदेश

हवेली खड़गपुर का संदेश।
मुंगेर जिले के अनुमंडल के आसपास के इलाके का बहुत ही पसंदीदा संदेश, जिसे वहाँ के नजदीकी भाषा में खिलौना बोलते है. यह दो तरीके से गुड़ और चीनी से बनाया जाता है. यह सर्दी या ठंड के दिनों में मिलता है. अमूमन यह दिसम्बर और जनवरी के महीने में अधिकतर मिलता है. यहाँ के लोग इसको रात के खाने के समय दूध और रोटी खाते समय इसको मीठे के रूप में इस्तेमाल करते है. यह अधिकतर हवेली खड़गपुर के मुजफ्फरगंज गांव जो मुंढेरी पंचायत के अंतरगर्त आता है, यहाँ अधिकतर बनाया जाता है. यहाँ के लोग अमूनन अपने बेटे और बिटिया रानी के ससुराल मकरसंक्रांति में यह सन्देश के रूप में भिजवाते रहते है, जिसे संपूर्ण बिहार मकरसंक्रांति के रूप में मनाते है. मकरसंक्रांति में शामिल चूड़ा, गुड़, तिलकुट, गुड़ और चीनी का खिलौना भेजते है. यह यहाँ का बहुत ही प्रसिद्ध और पसंदीदा नास्ते में खाने का मिठाई है.
यह सन्देश शुगर फ्री नहीं है, जिन्हे शुगर की बीमारी है कृपया इसका सेवन नाम मात्रा में करे क्यू की यह संपूर्ण गुड़ और चीनी से निर्मित पकवान या मिठाई है. आप किसी से यह मिठाई जिसे हम गुड़ और चीनी का सन्देश कहते है मंगवा भी सकते है.