चकचंदा त्योहार | Chauk Chanda Festival of Bihar | Chak Chanda Festival

चकचंदा त्योहार

चकचंदा महापर्व मुख्यतः बिहार के लगभग सभी जिलों में मनाया जाता है, जिसमे मुंगेर जिला भी मुख्यतः है. यह पर्व सावन महीने के बाद भाद्रपद में मनाया जाता है, जिन्हे हम हिंदी में भादो महीना भी बोलते है. इस पर्व को परवैतनी गंगा स्नान करने के बाद शाम में चंद्र भगवान को हाथ उठाकर पूजा, अर्चना और धुप दीप जलाकर करते है. पूजा के एक दिन पहिले, भगवती स्थान में माता भगवती को संता भिजवाकर इस पूजा का आरंभ किया जाता है. यह पर्व संध्या के समय, बहुत ही शांति पूर्ण तरीके से मनाया जाता है.

इस पर्व को मानाने के लिए मुख्यतः बांस के डाला में, ठेकुआ, पकवान, फल, पान, सुपारी, लड्डू, मिठाई और मिटटी के बर्तन में दही जमा कर मनाया जाता है. और चकचंदा पूजा के दिन शाम में चंद्र भगवान को अर्ग दिखाकर किया जाता है. और चकचंदा माता से अपने सभी परिवार जनो की सुख, समृद्धि और लम्बी उम्र की कामना की जाती है.

पूजा हो जाने के बाद प्रसाद का वितरण होता है, और सभी लोग प्रसाद का आनंद लेते है. जय श्री हरी.

Chauk Chanda Festival of Bihar. Chak Chanda Festival